ग्रामीण महिला महाविद्यालय, भादरा विजेता एवं डूँगर काॅलेज महिला शतरंज में रही उपविजेता

सिस्टर निवेदिता कन्या महाविद्यालय में दो दिवसीय अन्तर महाविद्यालय महिला शतरंज प्रतियोगिता का समापन श्री शंकर लाल हर्ष व डाॅ. भंवर लाल विश्नोई की उपस्थिति में हुआ। श्री हर्ष ने शैक्षणिक गतिविधियों के साथ-साथ सह-शैक्षणिक गतिविधियों के महत्व को बताते हुए सभी खिलाडियों को शुभकामनाएं दी और कहा कि शतरंज बौद्धिक विकास के लिए सबसे महत्वपूर्ण साधन है इसे खेलने वाला हर क्षेत्र में प्रगति करता है। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे डाॅ. भंवर लाल विश्नोई ने खेल का महत्व बताते हुए कहा खेल भावना पर प्रकाश डाला और कहा कि जीत-हार हर खेल का हिस्सा होता है खेल भावना ही खिलाड़ी को आगे ले जाती है। खेल प्रभारी अरूण व्यास ने बताया कि टीम वर्ग में ग्रामीण कन्या महाविद्यालय, भादरा ने प्रथम स्थान प्राप्त किया तथा राजकीय डूँगर महाविद्यालय, बीकानेर ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया वहीं व्यक्तिगत स्पर्धा में राजकीय महाविद्यालय, सुजानगढ़ ने प्रथम एवं टैगोर पी.जी. महाविद्यालय, सुरतगढ़ ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया। महाविद्यालय निदेशिका डाॅ. श्यामा पुरोहित ने सभी प्रतिभागियों को बधाई दी और अतिथियों का आभार व्यक्त किया। प्राचार्य डाॅ. रीतेश व्यास ने बताया की आज की प्रतियोगिता में कुल 6 राउंड हुए जिसमें टीम वर्ग में 3 राउंड खेले गए एवं व्यक्तिगत स्पर्धा में 3 राउंड पूर्ण हुए। समापन के अवसर पर विश्वविद्यालय प्रतिनिधि श्री डी.पी. छींपा, अध्यक्ष प्रतिनिधि हितेन्द्र मारू एवं श्री रामकुमार जी का महाविद्यालय परिवार कि ओर से स्मृति चिन्ह देकर सम्मान किया गया।